देश में ही नहीं विदेशों में भी महिलाओं को आज़ादी नहीं

देश में ही नहीं विदेशों में भी महिलाओं को आज़ादी नहीं

62
SHARE

आज के युग में महिलाएं पूरुषों के कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं जहां महिलाएं चांद तक अपने पांव जमा चुकी है वहीं दूसरी ओर दूनिया में कई देश ऐसे है जहां पर महिलाओं को अपने ज़िंदगी के मामूली फैसले लेने का भी अधिकार नहीं!

कुछ देशों में महिलाओं के साथ अमानवीय व्यवहार होता है! यदि बात करें नॉर्थ कैरोलिना के शेलॉट में तो महिलाओं को पूरा दिन 16 गज़ तक ढाका रहना चाहिए! चाहें इसके लिए उन्हें कितनी भी परेशानी झेलनी पड़ती हो!

वैटिकल सिटी एक पवित्र स्थान है इनकी पवित्रता का सबूत इस बात से लगाया जा सकता है की यहां महिलाओं को वोट देने का अधिकार नहीं ही नहीं इसके अलावा वैरोमंत में महिलाओं को नकली दांत लगवाने के लिए अपने पति की इजाज़त की ज़रुरत लेनी पड़ती है! यह तो अधिकारों के हनन की हद हो गई!

डेलावेरा में कोई भी लड़की अपने प्यार का इजहार नहीं कर सकती! और यमन में तो महिलाओं को कोर्ट में पूर्ण व्यक्ति का दर्जा ही प्राप्त नहीं है!

जहां विश्व के सबसे बड़ी शक्ति में एक ब्लैक प्रसिडेंट बन सकता है! परंतु इटली में यदि महिलाएं सुंदर नहीं है तो या बिमार है तो उसको चीस की फैक्ट्री में जाने की इजाज़त नहीं है!

जहां एक और महिलाऐं खेल जगत में अपनी प्रतिभा का लौहा मनवा रहीं है वहीं ईरान में महिलाओं को विश्व कप देखने की इजाज़त नहीं है!

सऊदी सबसे बड़ा तेल संसाधन देश है पर महिलाओं को ड्रायविंग करने की इजाज़त नहीं है! मिसौरी में तो महिलाओं को अंडर गारमेंट्स पहनने की इजाज़त नहीं है!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY