क्यों हो रहा है इजराइल राष्ट्रपति का विरोध

क्यों हो रहा है इजराइल राष्ट्रपति का विरोध

77
SHARE

जमीयत उलेमा-ए-हिन्द ने इज़राइल के राष्ट्रपति के आगमन के विरोध में धरना प्रदर्शन किया तथा उनके आगमन पर कढ़ा विरोध ज़ाहीर करते हुए कहा, ‘‘हम आंतकवादी देश इजराइल के राष्ट्रपति रुवेन रिवलिन को भारत बुलाए जाने और उनके स्वागत की निंदा करते है! हिन्दुस्तान ने हमेशा फिलिस्तीनी काज़ का समर्थन किया है तथा इजराइली आक्रामकता, आतंक, अत्याचार व मानव अधिकारों के हनन के के शिकार फिलिस्तीनियों के साथ सहानुभूति व्यक्त की है! दशको से हमारे देश की विदेशनीति मानवाधिकार संरक्षण और विश्व शांति के समर्थन में रही है, लेकिन इन दिनों यह विचलन की राह पर जा रही है! हम लोकतंात्रिक भारत के नागरिक अपनी सरकार के इस नीति परिवर्तन को पूरी तरह से गलत और देश की प्राचीन सभ्यता और परम्पराओं के खिलाफ मानते हुए खारिज करते है!

इजराइल से भारत के राजनयिक संबंध पच्चीस साल पहले शांति के रूप में स्थापित किये गये थे, जिसका उद्देश्य फिलिस्तीनी जनता को न्याय दिलाने के लिए एक मंच प्रदान करना था! लेकिन इससे फिलीस्तीनी जनता को फायदा नही पहुंचा हांलाकि इजरायल ऐसे कदमों से उर्जा पाकर विश्व से संबंध स्थापित करने में सफल हो गया!

उनका मानना है की फिलिस्तीनी नागरिकों को उनके घर से निकाल कर और उनकी बस्तियों को नष्ट करके शारणार्थि जीवन जीने पर मजबूर कर रखा है! 1967 के बाद से अवैध रुप से क़ब्ज़ा लेकर गाजा और पश्चिमी तट की जनता पर हर तरह के अत्याचार को अपना रखा है!

इस संस्था ने दूनिया के तमाम मुस्लिमों के हक़ की बात करते हुए कहा, हम भारतीय नागरिक मस्जिदे अक़सा और दीवार बुराक़ पर मुसलमानों का सर्वोच्च अधिकार स्वीकार करने के संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनेस्को के फैसले का स्वागत करतें हैं! मस्जिदे अक़सा मुसलमानों का पहला किबला है तथा बहुत सम्मानिय मस्जिद है! अभी हाल ही में संयुक्त राष्ट्र ने मजलूम फिलिस्तीनियों के पक्ष में कई फैसले दिए लेकिन बहुत निंदनीय है कि इजराइल लगातार यूएनऔ के निर्णयों का लगातार अपमान व उल्लंघन करता रहा है!
इस विरोध में मुख्य रुप से जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना कारी सैयद मौ. उस्मान मंसूरपूरी, महासचिव मौलाना महमूद मदनी, जमाअते इस्लामी-ए-हिंद से मौलाना इनामुर्रहमान, ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस मुशावरत, अनहद से शबनम हाश्मी, जामा मस्जिद युनाइटेड फोरम से मौलाना सैयद बुखारी, ए एन आई यू डी एफ से अध्यक्ष मौलाना बदरुद्दीन अजमल, जामिया क्लेक्टीव, ऑल इंडिया इंसाफ पार्टी दिल्ली, मेवात विकास सभा, मेवात कारवां, शोल्डर टू शोल्डर , फिलिस्तीन सोलिडारिट ऑग्रेनाईज़ेशन आदि शामील हैं!

अंजुम कुरैशी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY