क्या दोस्ती लाँघ पायेगी सरहदों को

क्या दोस्ती लाँघ पायेगी सरहदों को

52
SHARE

“दोस्ती हर रिश्ते से बढ़ी होती है”

“दोस्ती हर रिश्ते से बढ़ी होती है” ये पंक्ति अपने अक्सर सुनी होगी परन्तु वो सरहदों की दरारें दिलों पर भी नही पड़ने देती ये मिसाल भारत की बेटी पूर्वी ठक्कर और पाकिस्तानी बेटी सारा मुनीर है ! भारतीय लड़की अपनी पाकिस्तानी दोस्त के लिए भारतीय सिस्टम से संघर्ष कर रही है! पूर्वी पेशे से पत्रकार हैं, न्यूयॉर्क में रहती हैं, लेकिन अगले महीने मुंबई में शादी करने जा रही हैं!

उनकी दावत में शामिल होने वालों की फेहरिस्त में एक नाम पाकिस्तान की सारा मुनीर का भी है, जिन्हें पूर्वी अपनी ‘सबसे अज़ीज़ दोस्त’ बताती हैं! लेकिन सारा को भारतीय उच्चायोग ने भारतीय वीज़ा देने से मना कर दिया है! इस बात से ख़फ़ा पूर्वी ठक्कर ने एक नवंबर को अपने फ़ेसबुक अकाउंट से एक लंबी पोस्ट लिखी! पूर्वी की पोस्ट को 24 घंटे से कम समय में 600 से ज्यादा लोग शेयर कर चुके हैं!

इसमें उन्होंने लिखा, ”मेरे जीवन के सबसे अहम दिन पर मेरी सबसे अच्छी दोस्त मेरे साथ नहीं होगी!  इस बात को सोचकर ही मेरा दिल टूट गया है! ”पूर्वी अपनी दोस्त सारा के वीज़ा को लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय को भी लिख चुकी हैं! साथ ही पूर्वी ने एक ट्विटर कैंपेन भी शुरू किया है! वहीं पाकिस्तान स्थित सारा मुनीर ने भी अपने ट्विटर हैंडल के ज़रिए लोगों से दुआएं करने की अपील की है! कई पाकिस्तानी ट्विटर यूज़र्स ने अपनी प्रतिक्रया जताई है तथा पूर्वी और मुनीर की दोस्ती की कहानी पर हमदर्दी ज़ाहिर की है! उन्होंने कहा है दोस्ती का इसमें कोई गुनाह नहीं

दोस्ती का इसमें कोई गुनाह नहीं

लेकिन इसके विपरीत भारत में कुछ लोगों ने इसे पसंद नहीं किया है! भारत में मिली जुली प्रतिकियाएँ आयी है! कुछ ने समर्थन किया तथा कुछ ने विरोध बहरहाल तो दोस्ती सरहदों के तनाव में पीस रही है! दोनों देशों को ऐसी ही बेटियों की ज़रूरत है जो भारत पकिस्तान के रिश्तों को मज़बूती प्रदान कर सके!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY