टीना और अतहर के प्यार का रोड़ा बना अखिल भारतीय हिंदु महासभा

टीना और अतहर के प्यार का रोड़ा बना अखिल भारतीय हिंदु महासभा

75
SHARE

टीना और अतहर एक ऐसा नाम हैं जो देश भर में सिर्फ अपनी काबिलियत के दम पर मशहुर हुए हैं! बहुत कम उम्र में उंचाइयों का बहुत बड़ा मकाम हासिल कर लिया है! इस बीच उनका मौहब्बत भी परवान चढ़ गयी, जिसकी चर्चा हर जगह हो रही है और वो दोनों खुद भी इस रिश्ते से बेहद खुश हैं! टीना और अतहर के परिवार वालों को भी इन दोनों के रिश्ते से कोई ऐतराज़ नहीं हैं!

tina-and-athar-in-love-but-akhi-bhartiya-hindu-mahasabha-occlusion1

लेकिन सबकी उम्मीदों पर खरे उतरने वाले अखिल भारतीय हिंदु परिषद ने इन दोनांे के रिश्तों को लेकर कड़ी नारज़गी ज़ाहीर करते हुए टीना के पिता को एक पत्रा लिखा है जिसमें मुसलिम विरोधी मानसिकता का पूरा बखान कर डाला है !भारतीय हिंदु महासभा ने टीना डाबी के पिता को एक चिटठी लिख अपनी बेटी के मुस्लिम युवक से हो रहे विवाह को रोकने के लिए कहा! पत्र में कहा गया ऐसे मुस्लिम युवक हिंदु लड़कियों को बेहला फुसला कर उनसे विवाह कर उनका धर्म परिवर्तन करने में लगे है और उन्हें इसे रोकना होगा! साथ ही उन्होने इसे अतहर की घरवापसी से भी जौड़ा और कहा उसके शुद्वी के कार्य में महासभा उनका पुरा सहयोग करेगी!

यदि बात करें की चिट्ठी की तो इसे महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना शर्मा की और से टीना डाबी के पिता जसवंत डाबी को लिखी गई थी! किंतु यह देखना अवश्य ही जरुरी है की अतहर महज़ 23 साल के हैं और इतनी कम उम्र में भारत के सबसे बड़े प्रशासनिक सेवा में उड़ान भर ली है! उनकी स्कूल की पढ़ाई पुरी होने के बाद से ही उन्होने अपना सारा समय इस स्थान तक पहंुचने की जद्दो जेहद में लगा दिया! ऐसे में उनके पास समय कहां हो सकता है ऐसी फालतू एवं बचकाना बातें सोचने का ‘‘कि किसी हिंदु लड़की को फंसा लिया जाए और शादी कर ली जाए‘‘ ऐसी तुच्छ सोच प्रशासन के एक बड़े अधिकारी की नहीं आप जैसे नफरत के देवताओं की अवश्य हो सकती है! जो सिर्फ नफरत फैलाना जानते हैं वो कहां प्यार जैसे संवेदनशील रिश्तों को समझेंगंे

गोरतलब है की टीना और अतहर ने भारतीय प्रशानिक सेवा में सर्वोच्च स्थान हासिल किया है और अब अपनी आगे की ज़िंदगी को साथ बिताने का फैसला लिया है पर हैरत की बात है दो सफल लोगों को बाहारी समाज दबानेए अपनी इच्छा से चलाने का प्रयास कर रहा है! बेहद अजीब बात है आज के समय में और भारतीय प्रशानिक सेवा जेसी परीक्षा में सर्वोच्च स्थान हासिल करने वाले दो सफल लोगों को भी ऐसी संकीर्ण मानसिकता का सामना करना पड़ रहा है!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY