शबीना की ज़िंदगी में खुशियों ने की दस्तक एक युवक ने थामा...

शबीना की ज़िंदगी में खुशियों ने की दस्तक एक युवक ने थामा एसिड अटेक पीड़िता का हाथ

57
SHARE

कानपुर की शबीना के साथ बारह साल पहले हुए एक हादसे ने उसके इस सपने को बदसूरत बना दिया। एसिड अटेक से उनकी खुबसूरती छिन गई! सबको ऐसा लगा की कभी भी उनके हाथों को में मेंहदी नहीं लगेगी! लेकिन उनका सपना तब पूरा हुआ जब एक नौजवान ने उनका हाथ थाम लिया!

एक न्यूज़ नेटवर्क के मुताबिक चमनगंज की शबीना का नाम जुबान पर आते ही बारह साल पहले का वह दर्दनाक दृश्य स्थानीय लोगों के विचारों में आ जाता है जिसे यह शहर शायद ही भुला सकेगा।

बारह साल पहले शबीना के प्यार में एकतरफा पागल प्रेमी ने उसके चेहरे पर तेजाब डालकर उसका चेहरा खराब कर दिया था जिससे उसके जीवन के हसीन सपने चकनाचूर हो गए। लेकिन निराशा से भरे जीवन की इस यात्रा में 15 दिसंबर 2016 का दिन उसके जीवन में खुशी की सौगात लेकर आया। घटना के 12 साल बाद एक व्यक्ति ने लड़की से निकाह कर न केवल उसकी झोली खुशियों से भर दी है बल्कि इसके साथ ही उसने एक मिसाल भी पेश की है।

इसके बाद शबीना दुल्हन बनी और शमशाद उदाहरण बन गया। शबीना को जीवन झुलसाने वाला तेजाब कांड अभी भी उसके मन में ताजा है और जब भी इस घटना का ज़िक्र आता है तो उसकी आँखें आंसू से छलक जाती हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY