कुलबे में कलह खत्म नहीं, सपा की उम्मीदों को एक और झटका

कुलबे में कलह खत्म नहीं, सपा की उम्मीदों को एक और झटका

57
SHARE

उत्तर प्रदेश के समाजवादी कुनबे में चल रही कलह के बीच सभी का मिलने मिलाने का सिलसीला तेज हो रहा है लेकिन इसको खत्म होने की उम्मीदों को झटका लगा है। मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव की अमर सिंह और शिवपाल यादव को हटाने की मांग को मानने से इनकार कर दिया है। अखिलेश चाहते हैं कि अगले तीन महीने वह राष्ट्रीय अध्यक्ष बने रहेंए शिवपाल अध्यक्ष पद छोड़ें जबकि अमर सिंह पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दें।

कल देर रात मुलायम और अखिलेश के बीच सुलह का एक फॉर्मूला तय हुआ था। इस फैसले के अनुसार चुनाव के बाद मुलायम राष्ट्रीय अध्यक्ष बनेंगे फिलहाल वह सिर्फ संरक्षक ही बने रहेंगे। टिकट बंटवारे का अधिकार अखिलेश के पास होगा। शिवपाल यादव प्रदेश अध्यक्ष पद छोड़ेंगे। शिवपाल के टिकट का फैसला अखिलेश करेंगे। अमर सिंह पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा देंगे। मुलायम सिंह चुनाव आयोग से अपील वापस लेंगे। एक जनवरी के अधिवेशन को मुलायम वैध मानेंगे।

शिवपाल खुद अखिलेश से मिलने गए थे लेकिन अखिलेश ने उनसे मिलने से इनकार कर दिया यानि अखिलेश किसी भी हालात में झुकने को तैयार नहीं है। बता दें कि लंबे समय से शिवपाल और अखिलेश में मनमुटाव की स्थित बनी हुई।

दिल्ली में राम गोपाल यादव आज विधायकों और नेताओं के समर्थन का हमलफनामा चुनाव आयोग को सौपेंगे। लखनऊ से सारे हलफनामे दोपहर दो बजे के करीब दिल्ली पहुंचेंगेए जिसके बाद राम गोपाल 3 बजे के आस.पास हलफनामे चुनाव आयोग में जमा कराएंगे। अखिलेश के समर्थन में 229 विधायकों में से 212 विधायकों ने हलफनामा दिया है जबकि पार्टी के 68 एमएलसी में से 56 ने अखिलेश के समर्थन में हलफनामा दिया है। इसके अलावा पार्टी के तकरीबन 5000 प्रतिनिधियों ने अखिलेश के समर्थन में हलफनामा दिया है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY