ज़िंदगी से बड़ा मज़हब, धर्म परिवर्तन ने ली मासूम की जान

ज़िंदगी से बड़ा मज़हब, धर्म परिवर्तन ने ली मासूम की जान

65
SHARE

भारत में संविधान ने नागरिकों को यह अधिकार दिया है की वह अपना धर्म खुद चुन सकें! जनता को अपने धर्म का प्रचार करने का पूर्ण अधिकार दिया गया है! लेकिन यह अधिकार किसी मासूम की जान पर आ बना! केरल के मलप्पुरम जिले में एक शख्स की लाश रोड पर बरामद की गई है! उस व्यक्ति ने कुछ समय पहले ही धर्म परिवर्तन किया था!

हत्या का शिकार हुए शख्स की पहचान फैसल पी उर्फ अनीश कुमार के रूप में हुई है! अखबारों की माने तो फैसल की हत्या के पीछे धर्म परिवर्तन माना जा रहा है! क्योंकि उनके इस कदम से कई लोग नाराज़ थे एवं उनके परिवार के पास धमकियां भी आ रहीं थी पर परिवार वालों को क्या पता था कि यह धमकियां हकीक़त का रुप इख्तियार कर लेंगी!

खून से लथपथ पाए गए फैसल के सिर पर भी कई वार किए गए थे! पुलिस ने लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और बताया कि फैसल के शरीर पर धारदार हथियार से कई वार किए गए थे! गौरतलब है की फैसल काम के लिए सऊदी गया था और उसने वहीं पर इस्लाम कबूल लिया! इसके बाद चार महीने बाद जब वह रियाद से घर लौटा तब परिवारवालों को भी इस्लाम कबूल करवा दिया!

इस देश में अब सांस लेना भी मुश्किल है क्यांेकि हम क्या चुन रहे हैं क्यों चुन रहे हैं इसका अधिकार सिर्फ हमें होना चाहिए! भारत जैसे विशाल देश में संविधान निर्माताओं ने शायद ये सौचा भी नहीं होगा के उनके द्वारा बनाए गए कानूनो की इस तरह धज्जियां उड़ाई जाऐंगी!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY