संयुक्त राष्ट्र इजरायल के खिलाफ, फिलिस्तीन को जीत, ओबामा भी समर्थन में

संयुक्त राष्ट्र इजरायल के खिलाफ, फिलिस्तीन को जीत, ओबामा भी समर्थन में

37
SHARE

संयुक्त राज्य अमेरिका कहीं न कहीं मुस्लिम विरोधी गतिविधीयों से चर्चा में रहता है और नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी चुनावों के दौरान भी कुछ ऐसा ही कहा था। परंतु इसके विपरित ओबामा प्रशासन ने सालों पुराने अपने स्टैंड को बदलते हुए संयुक्त राष्ट्र में इजरायल के खिलाफ जाकर फिलिस्तीन को जीत दिला दी।

संयुक्त राष्ट्र में फिलिस्तीन में बढ़ते जा रहे इजरायल के अवैध कब्जे के खिलाफ प्रस्ताव रखा गया। जो अमेरिका के बिना रोक.टोक के 14.0 से पारित हो गया। इस प्रस्ताव में ओबामा प्रशासन ने न बीटो का इस्तेमाल किया न इसमें हिस्सा लिया। जिससे यह प्रस्ताव पूर्ण बहुमत से संयुक्त राष्ट्र में पास हो गया।

हालांकि इस प्रस्ताव के पास होने के बाद इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेंतन्याहू ने प्रतिक्रिया देते हुए संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव को मानने से इंकार कर दिया। बेंजामिन ने कहा कि हमारे खिलाफ संयुक्त राष्ट्र के इस शर्मनाक प्रस्ताव को इजरायल नहीं मानेगा।

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भी प्रतिक्रिया आई। ट्रंप ने ट्विटर पर लिखा किए 20 जनवरी के बाद संयुक्त राष्ट्र ;यूएनद्ध की सोच भी बदल जाएगी। ट्रंप ने तो अपनी सोच का सबूत पहले ही दे दिया था परंतु अब देखना यह होगा की इस दिशा में उसका क्या कदम होगा।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY