जब हाजी सिराजुद्दीन ने कहा था “हम हिन्दुस्तान का बंटवारा नहीं चाहते”

जब हाजी सिराजुद्दीन ने कहा था “हम हिन्दुस्तान का बंटवारा नहीं चाहते”

58
SHARE

भारत को स्वतंत्र कराने के लिए बहुत से लोगों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी और जी जान से भारत को परतंत्रता की बेड़ियो से मुक्त कराने में लग गए! आजादी की लड़ाई के लिए सुऐब मोहम्मदिया ऐग्लो ओरीयन्टल कॉलेज का मुस्तुफा हॉल मुजाहीदीने आजादी का केन्द्र था!

जब अलीगढ़ यूनीवर्सिटी में मोहम्मद अली जिन्ना ने हिन्दुस्तान के बंटवारे का प्रस्ताव मुसलमानों के बीच में रखा तो उसी समय हाजी सिराजुद्दीन उर्फ चाया सिराजू उसके विरोध में अपना स्वर ऊंचा करते हुए कहा की हम हिन्दुस्तान का बंटवारा नहीं चाहते और हम पाकिस्तान नहीं चाहते इसके बाद वह सभा का बहिष्कार करते हुए बाहर निकल गए!

हाजी सिराजुद्दीन कुरैशी जैसे स्वतंत्रता सेनानी की कुर्बानियों को भुलाया नहीं जा सकता! लेकिन दुख की बात तो यह है की धर्म की इस लड़ाई में देश के लिए दी गई शहादत को भी लोग भूल गए हैं!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY