विवादों के घेरे में अरब सागर में बनने वाला छत्रपति शिवाजी स्मारक

विवादों के घेरे में अरब सागर में बनने वाला छत्रपति शिवाजी स्मारक

60
SHARE

साढ़े तीन हज़ार करोड़ रुपए की लागत से बन रहा छत्रपति शिवाजी स्मारक अब विवादों के घेरे में आ गया है। पर्यावरण संरक्षकों ने इस निर्माण के खिलाफ़ नैशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में शिकायत दर्ज की है वहीं शहर के कुछ नागरिकों ने इस निर्माण के खिलाफ हाइकोर्ट में ऑनलाइन पिटीशन दायर की है। इस निर्माण का विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि सोलहवीं शताब्दी के राजा शिवाजी के बनाए कई किले महाराष्ट्र में आज भी जर्जर अवस्था में हैं। उनका संरक्षण ज्यादा ज़रूरी है।

इसके अलावा मछुआरों ने भी अरब सागर में 3 किलोमीटर अंदर बनने वाले इस निर्माण पर आपत्ति जताई है। पर्यावरणविद प्रदीप पाताड़े ने इस निर्माण को समुद्री पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा बताया है। प्रदीप पाताड़े का कहना है किए समुद्र में होने जा रहे इस निर्माण से मुंबई की गिरगाव चौपाटी ख़त्म हो सकती है। वहीं मछुआरों के नेता दामोदर तांडेल ने कहा है कि शिवाजी स्मारक के निर्माण से मछुआरे मछली पकड़ने पानी में नहीं जा सकेंगे।

वहीं गेटवे ऑफ इंडिया पर आयोजित एक कार्यक्रम में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस बाबत कहा कि शिवाजी के किलों के संवर्धन का काम भी शुरू हो चुका है और कितनी भी मुश्किलें आए शिवस्मारक का काम भी वह कर के दिखाएंगे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY