भरत कुमार ने पूरा किया मां का सपना, बर्तन मांझ कर की...

भरत कुमार ने पूरा किया मां का सपना, बर्तन मांझ कर की थी बेटे की परवरिश

63
SHARE

चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव जीतने वाले भरत कुमार की। भाजपा की टिकट पर कामवाली के बेटे भरत ने जीत हासिल की। मां ने 27 साल तक कोठियों में बर्तन धोए सफाई की और बच्चों को पाला। अब बेटे ने उसे वो तोहफा दिया कि उसकी आंखें खुशी से छलक पड़ीं।

इस मां ने बहुत ही मुश्किल हालात में भरत को पढ़ाया लिखाया और इस मुकाम तक पहुंचाया। उन्होंने बताया कि 40 साल पहले वह मुजफ्फरनगर (यूपी) के एक गांव से काम की तलाश में यहां आई थीं। शकुंतला ने बताया कि उन्होंने 27 साल तक कोठियों में काम किया। चुनाव में नोटबंदी के बीच भाजपा ने 26 में से 21 सीटों पर जीत हासिल की।

वार्ड नंबर-23 से भरत ने अपने प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस की पूर्व मेयर कमलेश को छह हजार 9 सौ 74 वोटों से हरा दिया। भरत की जीत में उनकी मां शकुंतला का भी अहम रोल है। वह सेक्टरों की कोठियों में जाकर साफ-सफाई और बर्तन मांजने का काम करतीं थीं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY