आसिया अब्द अल-ज़हीर ने क़ुबूल किया इस्लामए साझा किए अनुभव

आसिया अब्द अल-ज़हीर ने क़ुबूल किया इस्लामए साझा किए अनुभव

83
SHARE

आसिया अब्द अल-ज़हीर ने इस्लाम क़ुबूल किया जिसके बाद उन्होने अपने अनुभवों को साझा किया और उन्होने कहा की इस्लाम कबूल किया तो बहुत दर्द सहेए पर मुझे इस्लाम ने बहुत से तोहफे दिए हैं। उन्होंने अपने अनुभवों को कुछ इस अंदाज में साझा किया!

जब से मुझे सोचने की छमता मिली और मैं गहराई से सोचने लगीए कि हम सब को बनाने वाला एक ही हैए इस संसार में जो कुछ भी है उसी के ऊपर निर्भर करता है। परंतु मेरे माता.पिता बौध्द हैंए मैं अपनी 13 वर्ष की आयु से हर रोज़ उस निर्माता से प्रार्थना करती थी कि मुझे सही मार्गदर्शन दे।

अफ़सोस की बात है कि मुझे इस्लाम का ज़्यादा ज्ञान नहीं था। मैं इसे एक विचित्र धर्म मानती थी। कुछ अविकसित देशए जिसमे से ज़्यादातर मध्य पूर्व से थेए जो दमनकारी जीवनशैली का समर्थन करते थे। मुस्लिम महिलाओ को में समझती थी कि निचले स्तर पर रखा जाता है

मैंने तीन साल पहले विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया थाए तब मैं कुछ मुस्लिम लोगों से मिली जो मुस्लिम परष्ठभूमि के लोग थे। हैरत की बात हैए पर पता नहीं क्यू मेरे मन में उनके धर्म को सीखने और जानने की जिज्ञासा होने लगी। मैंने देखा और मैं उनके सबसे बात करने के तरीके से बहुत प्रभावित हुईए सबसे ज़्यादा तो अपने धर्म के प्रति गर्व के कारण जिसका सब एक नकरात्मक अर्थ निकलते हैं।

मैं धीरे.धीरे इस्लाम से मोहित होने लगीए और मेरी पढाई के दौरानए मैं अपने खुद के धर्म ईसाइयत से ज़्यादा उनके धर्म की इज़्ज़त करने लगी। मैं हैरान थीए कि मैं इस्लाम धर्म को लेकर पहले कितनी गलत थीए और मैंने ये जाना और सीखा कि मुसलमान धर्म ने महिलाओं को बराबर का हक़ दिया है।

अधिक से अधिक साहित्यए संकेत और सबूत मेरे सामने आ रहे थेए जिसने मुझे सोचने पर मजबूर किया और मेरे ह्रदय को गर्म कर दिया। फिर मैं इस्लाम के बारे में सब जानना चाहती थीए मुझे इस्लाम में भाईचारे और एक दूसरे के प्रति झुकाओ की जानकारी थी।

मैं तब तक नमाज़ नही पढ़ती थी जब तक मैं यह न निश्चित न कर लूँ की कोई आस.पास नही है। और मैं रमज़ान में अपने उत्साह को भी नही दिखा सकती थी। मैं उस एहसास को भी नही भूल सकती थीए जब मैं और किसी मुस्लिम बहन को हिजाब में देखती थीए और ना तो मैं उन पाठों को भूल सकती हु जो मैंने छात्रों द्वारा सीखा था।

 

Asia Abd al- Zaheer admitted Islam shared experience

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY