और शादी टुटने से बच गई

और शादी टुटने से बच गई

60
SHARE

नोटबंदी के चलते कई शादियां टुट गई और कई टुटने की कगार पर हैं ऐसे में पिता की चिंता देख घर की बेटी ज्योति ने खुद कदम बढ़ाया और प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा! उसने पत्र में अपनी घर की माली हालत का कुछ अंदाज में जिक्र किया कि प्रधानमंत्री कार्यालय का भी दिल पसीज गया!

जितेंद्र ठेले पर कपड़ा बेचकर गुजारा करते हैं वह बनारस के फूलपुर में अपनी बेटी की शादी तय की! यह शादी 25 नवंबर को होनी है! घर पर मेहमानों का स्वागत और शादी में होने खर्च से जितेंद्र के साथ बेटी ज्योति की नींद उड़ा दी!

जितेंद्र ने बताया की श्मुझे तो पता भी नहीं था कि मेरी बेटी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है! उसने तो मुझे दूसरे दिन बताया कि उसने पीएम को पत्र लिखा है! मुझे लगा कि कुछ तो मदद मिल जाएगी! अब डीएम ने हमें 20 हजार रुपए की आर्थिक मदद की!

सारनाथ थाना इलाके के सारंगतालाब मोहल्ले के रहने वाले जितेंद्र साहू की आर्थिक हालत बेहद तंग हैण् ठेले पर कपड़ा बेचकर किसी तरह परिवार का भरण.पोषण करते रहे हैंण् बेटी बीए की पढ़ाई कर रही हैण् जितेंद्र साहू के परिवार में तीन बेटी और एक बेटा हैण्

ज्योति ने कहा, मेरे घर की हालत बेहद खराब है! पैसे की बहुत ही तंगी है! पापा ने मेरी शादी तय कर दी! उनके पास इतने पैसे नहीं थे कि शादी सही तरीके से हो पाए! ऐसे में हमने दीदी से मिलकर प्रधानमंत्री को पत्र लिखा! हमें डर था कि कहीं शादी टूट ना जाए!
8 नवंबर को प्रधानमंत्री कार्यालय को घर की पूरी स्थिति बयान करते पत्र लिखा! इसमें उसने मदद की अपील की! साथ ही शादी टूट जाने की कहानी बयां करते हुए शादी का कार्ड भी भेजा! बनारस की बेटी का पत्र पीएमओ पहुंचते ही जिलाधिकारी को फोन आया और ज्योति की मदद के लिए निर्देश देते ही डीएम ने फौरन गरीब परिवार को बुलाकर 20 हजार रुपए की आर्थिक मदद पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग से दिलाई! साथ ही डीएम ने जिले के समाजसेवी संगठनों से मदद के लिए अपील की!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY