इलाहाबाद हाईकोर्ट ने तीन तलाक को कहा असंवैधानिक कोई पर्सनल लॉ बोर्ड...

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने तीन तलाक को कहा असंवैधानिक कोई पर्सनल लॉ बोर्ड संविधान से ऊपर नहीं है

27
SHARE

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने तीन तलाक को असंवैधानिक है ठहराया कोर्ट ने कहा, कोई पर्सनल लॉ बोर्ड संविधान से ऊपर नहीं है! यह मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का उल्लंघन है! कुछ महिलाओं और केंद्र सरकार ने तीन तलाक को सुप्रीम कोर्ट में भी चुनौती की है! इनका कहना है कि तीन तलाक लैंगिक न्यायए समानता और संविधान के खिलाफ है!

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का कहना है की वह तीन तलाक का समर्थन करता है! किसी महिला को मारने की बजाय तलाक देना सही है! धर्म द्वारा दिए गए अधिकारों पर कोर्ट में सवाल नहीं उठाए जा सकता! इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यह बात बुलंदशहर की हिना और उमरबी की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुई की! कोर्ट दोनों याचिकाओं पर फैसला सुनाते हुए कहा कि तीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के साथ क्रूरता है।

कोर्ट ने साथ ही कहा कि पवित्र कुरान में भी तलाक को सही नहीं माना गया है! इससे मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों का हनन किया जा रहा है!

%e0%a4%87%e0%a4%b2%e0%a4%be%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%ac%e0%a4%be%e0%a4%a6-%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%88%e0%a4%95%e0%a5%8b%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%9f

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के कमल फारुकी ने कहाए संविधान मुझे मेरे धर्म को मानने का अधिकार देता है! यह कोर्ट की टिप्पणी हैए ना कि उनका फैसला! इस्लाम महिलाओं के अधिकारों के लेकर एक प्रगतिशील धर्म है! तलाक शरिया कानून का हिस्सा हैए इसमें किसी का दखल नहीं होना चाहिए!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY