अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि देश सभी का है

अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि देश सभी का है

76
SHARE

अकबरुद्दीन ओवैसी अपने तुफानी अंदाज में अपने आलोचको की धज्जियां उड़ा देते है। वह देशभक्त तो है ही साथ ही देश में रहले वाले दुशमनो की भी अलोचना करते रहें है। हिंदुस्तान में रहने वाले आस्तीन के सांपों को अकबरुद्दीन ओवैसी से मिल लेना चाहिए जो देशभक्ति के नाम पर आए दिन कहीं ना कहीं बिना वजह से मुस्लिम समुदाय के नौजवानों को निशाना बनाते हैं।

आए दिन मुसलमानों का नाम लेकर कुछ ना कुछ बयानबाज़ी की जाती है। अभी हाल ही में योगी आदित्यनाथ ने भी मुस्लिमों को जुम्मे की छूट को लेकर हाहाकार मचा दिया था। लेकिन वो शायद ये बात भूल गए है इस देश को आजाद कराने के लिए जितना दूसरी कौम के लोगों ने साथ दिया है उतना ही इसमें मुसलमान लोग भी शामिल रहे हैं।

अकबर कहते है की जब हमारे पुरखों ने आजादी दिलाई है तो यह देश अकेला किसी के बाप का कैसे हो गया इस देश पर मुसलमानों का भी उतना ही है जितना कि और कोई दूसरा दावा करता है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY