देश को आज़ाद हुए 70 साल, पर क्या महिलाऐं आज भी...

देश को आज़ाद हुए 70 साल, पर क्या महिलाऐं आज भी है सुरक्षित?

34
SHARE

मध्यप्रदेश के इंदौर से आई है। जो मजबूरी पर सवाल करने और मजबूरी में एक मां के जज्बे को सलाम करने पर मजबूर करती है। 25 दिसंबर को इंदौर के एक शादी समारोह में शादी के खुशगवार माहौल में एक तस्वीर कैमरे में कैद हुई।

ऐसी तस्वीरें एक तरफ एक औरत की हिम्मत की कहानी बयां कर रही थी। वहीं दूसरी तरफ अबतक की तमाम शासनिक-प्रशासनिक व्यवस्थाओं की पोल खोल रही थी। कि इतनी योजनाएं बनाई गई करोड़ो बहाए गए फिर भी आजतक व्यवस्था अमल में नहीं ला सकी। आज भी स्वतंत्र नहीं है।

लेकिन सवाल इस एक मां के अलावा भी तमाम औरतों का है जो मां बनती है। जो मजबूरी में शाम को घर का चूल्हा जलाने के लिए इसी मां की तरह कई-कई किलोमीटर अपने सिर पर वजन लेकर चलती है। फिर एक बार से सिर्फ एक इ़दौर ही नहीं पूरे देश की मांओ को सलाम ! उनके जज्बे व हिम्मत को सलाम ।

इंदौर की इस शादी में बैंड.बाजों के शोरगुल में एक शांत खामोश औरत अपने पेट में अपनी नन्ही जान को लिए कई किलो वजन की लाइट को उठाकर शादी वाले घरो में रोशनी पहुंचा रही है। इस शांत खामोश एक जिस्म दो जान वाले मन में सिर्फ अपने बच्चे की हिफाजत और हिफाजत का सवाल चल रहा होगा।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY