डॉ. नौहेरा शेख ने शहीदों के परिवार के लिए बढ़ाया मदद का...

डॉ. नौहेरा शेख ने शहीदों के परिवार के लिए बढ़ाया मदद का हाथ, दिये 4 – 4 लाख रुपये

56
SHARE

जब भारत का काई खिलाड़ी जीतकर आता है तो उसके कदमों में नोटों का ढेर लग जाता है परंतु जब कोई शहीद सीमा पर अपनी जान गावां देता है तो उसे कोई पूछता तक नहीं है लेकिन इस और एक सरहानीय कदम उठाया है डॉण् नौहेरा शेख ने। मशहूर हीरा ग्रुप की फाउंडर और सीईओ डॉ. नौहेरा शेख ने ऊड़ी हमले में शहीद हुए भारतीय सैनिकों के परिजनों की और मदद का हाथ बढ़ाते हुए आर्थिक मदद दी हैं। नौहेरा शेख की और से सभी शहीदों के परिजनों को 4-4 लाख रुपए की आर्थिक मदद प्रदान की।साथ ही नौहेरा शेख की और से शहीदों की संतानों की शिक्षा की तालीम का जिम्मा भी उठाया गया हैं। उन्होंने शहीदों के बच्चों की शेक्षणिक मदद के लिए 15 हजार रुपए प्रति माह की मदद भी दी हैं। डॉ. नौहेरा शेख हीरा ग्रुप की फाउंडर और सीईओ हैं।

डॉ नोहेरा शेख हीरा ग्रुप की सीईओ और फाउंडर हैए हीरा ग्रुप 18 विभिन्न कम्पनियो को संचालित करती है जैसे हीरा गोल्ड, हीरा प्योर ड्रॉप्स, हीरा इंटरनेशनल स्कूल, हीरा गोल्ड एक्सपोर्ट घाना लिमिटेड एहीरा ज्वैलरीए हीरा इलेक्ट्रॉनिक्स, हीरा ग्रेनाइटए हीरा फ़िन कैपिटल, हीरा ट्रेवल्सए हीरा एस्टेट, हीरा इलेक्ट्रॉनिक्स इत्यादि। इसके अलावा उनकी कंपनी हजए उमराह के लिए भी सेवाए प्रदान करती हैं।

डॉ. नोहेरा शेख ने 19 वर्ष की आयु में 6 लड़कियों के साथ मदरसा शुरू किया था जिसमे वो कुरान और हदीस की शिक्षा देती थी। आज उनके मदरसे में 600 से अधिक बलड़कियां शिक्षा ले रही हैं जिनमे से कई बच्चियां फीस का इन्तिजाम भी नही कर पाती हैं। जिनका खर्च स्वयं नोहेरा द्वारा उठाया जाता हैं। डॉ नोहेरा शेख अन्य चैरिटेबल कार्य भी करती हैण् असल में डॉ साहिब ने अपने चैरिटेबल कामो को सपोर्ट करने के लिए व्यवसाय में उतरने का मन बनाया था और अल्लाह के फज़लए इनकी मेहनत और लगन ने 20 कामयाब कम्पनियो का मालिक बना दिया

हाल ही में उनकी हीरा फूडेक्स यू ऐ इ को संयुक्त अरब अमीरात में बेस्ट न्यूकमर श्रेणी में अवार्ड मिला है। यह अवार्ड सातवे गल्फ फ़ूड अवार्ड के अंतर्गत दिया गया। हीरा फूडेक्स भी इन्ही 18 कम्पनियो में से एक है जिसको दुबई में बेस्ट न्यूकमर का अवार्ड मिला है। डॉ नोहेरा शेख अब तक 20 से अधिक अवार्ड पा चुकी हैंए इसके अलावा वो कई एनजीओ चलाती हैंण् और वे महिलाओं के हितों में आवाज उठाने वाले कई एनजीओ से भी जुडी हुई हैं

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY