सोशल नेटवर्किंग पर बरतें सावधानी

सोशल नेटवर्किंग पर बरतें सावधानी

56
SHARE
हर सिक्के के दो पहलू होते हैं इसी तरह सोशल नेटवर्किंग साइट्स के भी दो पहलू  है एक सकारात्मक एक नकारात्मक! हम इसके सिर्फ सकारत्मक पहलु पर ही ध्यान  देते है! जबकि कई बार इसके परिणाम काफी भीषण भी हो सकते है जैसे डिप्रेशन का शिकार होना, बच्चों में गलत आदतें पैदा करना, ब्लैकमेलिंग का शिकार होना इत्यादि! लेकिन इससे घबराने की ज़रुरत नहीं कुछ खास बातों पर ज़ोर देकर आने वाली मुसीबतों से बचा जा सकता है! 
 

1. सच्चे रहें: सोशल नेटवर्किंग साइट पर सच्चे बने रहने की जरूरत होगी। यहां फर्जी पहचान ज्यादा नहीं टिकेगी और न ही आप फर्जी लोगों के चक्कर में पड़ें। अगर आप इन साइटों से बहुत गहरे नहीं जुड़ेंगे तो यह मस्ती का जरिया भी बन सकता है। इसलिए आप जब भी सोशल नेटवर्किंग साइट पर नए लोगों से मिलें तो सच्चे और ईमानदार बने रहें। और ऐसे ही अपेक्षा आप दूसरों से भी कर सकते है! 

 
2. हर समय और हर जगह नए दोस्त: सोशल नेटवर्किंग की सबसे बड़ी बात यह है कि आपको हर समय और हर जगह नए दोस्त मिल जाएंगे। सोशल नेटवर्किंग साइट पर पूरी दुनिया के लोग आपस में मिल सकते हैं और बातें कर सकते हैं। नए रिश्ते बनाने में दूरियां कभी भी रुकावट नहीं बनतीं। लेकिन इसमें थोड़ी समझदारी अवश्य बरतें !
 
3. सोच समझ कर इस्तेमाल करें: सोशल नेटवर्किंग साइट का इस्तेमाल काफी सोच समझकर करना चाहिए। आपको कोशिश करनी चाहिए कि आप इसके सारे फीचर्स का प्रभावी रूप से इस्तेमाल करें। सोशल नेटवर्किंग हमें पर्सनल लेवल और प्रोफेशनल लेवल पर हर मौके को भुनाने का अवसर दिलाता है। आप यहां किसी भी तरह के प्रोडक्ट और सर्विस की मार्केटिंग कर सकते हैं। लेकिन ऐसी किसी भी चीज़ की नहीं जो नियमों का उलंघन करे!
 
 4. सावधान रहें: सोशल नेटवर्किंग साइट की यह खासियत है कि हम देश की सीमा से बाहर जाकर एक साथ जुड़ते हैं। पर हां, यहां आप लोगों से बात करने के दौरान थोड़े सतर्क रहें। यह जरूरी नहीं कि आप इस आभासी दुनिया में जिन लोगों के संपर्क में हैं, वे अच्छे ही हों।
 
5. मस्ती करें, पर लिमिट में रहें: चाहे फेसबुक हो या कोई अन्य सोशल नेटवर्किंग साइट, यहां आप ढेर सारी मस्ती कर सकते हैं। टाइम पास करने का यह एक अच्छा तरीका है। पर इसका मतलब यह नहीं कि आप किसी की गोपनीयता भंग कर दें ये आपको अपने लिए भी अच्छा नहीं लगेगा! 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY