सरकार का भेदभाव, गौ रक्षकों का आतंक, ईद पर कुर्बानी कैसे करेंगे...

सरकार का भेदभाव, गौ रक्षकों का आतंक, ईद पर कुर्बानी कैसे करेंगे मुस्लिम ?

46
SHARE

उत्तर प्रदेश का मुस्लिम समाज बकरीद के मौके पर होने वाली कुर्बानी को लेकर कशमकश में है. सूबे में जानवरों के अवैध कटान के नाम पर पशु व्यापारियों को पुलिस धर-पकड़ रही है. प्रशासन के इस सख्त रवैए से कुर्बानी के जानवर मुस्लिम समाज तक पहुंच ही नहीं पा रहे. यही वजह है कि उनमें कुर्बानी को लेकर संशय बना हुआ है.

bakraeid
दरअसल सूबे में योगी सरकार के सत्ता में आने के बाद अवैध बूचड़खानों को बंद करा दिया गया था. इसकी वजह से कई जगह से शादियों में भी मुस्लिम समाज के लोगों को जानवर काटने के लिए प्रशासन की अनुमति लेनी पड़ी थी. कई जगहों पर प्रशासन ने अनुमति देने से इनकार कर दिया था. प्रशासन इसे लेकर सख्त रवैया अख्तियार किए हुए है. इस वजह से कुर्बानी के जानवर मुस्लिम समाज तक पहुंच ही नहीं पा रहे. ऑल इंडिया जमियातुल कुरैश के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष डॉ. युसुफ कुरैशी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और चीफ सेक्रेटरी को ज्ञापन दिया है. उन्होंने कहा कि यूपी पुलिस जानवरों के अवैध कटान के नाम पर कुर्बानी क लिए जानवरों की बिक्री करने वाले पशु व्यापारियों के प्रताड़ित कर रही है. उत्तर प्रदेश में बकरे और भैंस की कुर्बानी होती है. इन जानवरों को मुस्लिम समाज तक पहुंचाने का काम पशु व्यापारी करते हैं. ये पशु व्यापारी अलग-अलग बाजारों से जानवरों को खरीदकर लाते हैं, जहां मुस्लिम समाज कुर्बानी के लिए उनसे खरीद फरोख्त करता है. कुरैशी कहते हैं कि बकरे और भैंस की कुर्बानी होती है. इन जानवरों पर किसी तरह की कोई रोक नहीं है. इसके बावजूद पुलिस इन जानवरों के अवैध कटान के नाम पर व्यापारियों को परेशान कर रही है.
हापुड़ में गुरुवार को पुलिस वालों ने जानवरों के अवैध कटान के नाम पर दो पशु व्यापारी गिरफ्तार किए और उनकी दस भैंसों को भी अपने कब्जे में ले लिया. युसुफ कुरैशी का कहना है कि ये जानवर कुर्बानी के लिए लाए गए थे, जिसे पुलिस अवैध कटान के नाम धर पकड़ कर बैठी हुई है. पुलिस तर्क दे रही है कि अदालत के जरिए जानवरों को छुड़ाएं.
युसुफ कुरैशी कहते हैं कि योगी सरकार के आने के बाद गोरक्षकों के आतंक के कई मामले सामने आए हैं. ये गोरक्षक सिर्फ गाय ही नहीं बल्कि भैंस को लेकर जाने वाले व्यापारियों को भी परेशान करते हैं. इसी वजह से पशु व्यापारियों में डर है, जिससे इस बार जानवरों को वो बाहर से नहीं ला रहे हैं. खासकर कुर्बानी के लिए बड़े जानवरों की काफी दिक्कत हो रही है.युसुफ कुरैशी कहते हैं कि सरकार से हमने यही मांग की है कि 4 सितंबर तक कुर्बानी के जानवरों को लाने ले जाने वालों को परेशान न किया जाए. क्योंकि इस्लाम में कुर्बानी करना एक अहम इबादत है. ऐसे में सरकार को चाहिए कि मुसलमानों की धार्मिक भावनाओं का सम्मान करते हुए कुर्बानी के खास इंतजाम किए जाएं.
गौरतलब है कि ईद-उल-अजहा के मौके पर मुस्लिम समाज में कुर्बानी करना जरूरी होता है. दुनिया भर के मुस्लिम समाज इस मौके पर जानवरों की कुर्बानी करता है. इस्लामिक मान्यता के अनुसार कुर्बानी हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम की सुन्नत है, जिसे अल्लाह ने मुसलमानों पर वाजिब कर दिया है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY