भगवान की आस्था रुपयों के पलड़े में

भगवान की आस्था रुपयों के पलड़े में

78
SHARE

नोटबंदी के प्रभाव से भगवान भी नहीं बच पाए! आज भगवान को भी लोग अपने फायदे के लिए इस्तेमाल कर रहैं है! अपने काले धन को दुनिया से छिपाने वाले लोग आज अपना पैसा मंदिर में दान कर के चले गए! चलो इस बहाने भगवान की भी थोड़ी पूछ हो गई और भक्तों को भी पता चल गया की भगवान मुसिबत के समय अपने भक्तों की मदद ज़रुर करता है! खैर कुछ लोग रुपयों को गंगा नदी में बहा रहे हैं! तो कोई इसे फटे हालत में बैग में भरकर डस्टबिन में फेंक रहा है! इससे तो अच्छा ही है की भगवान के चरणों में ही ढाल दिए जाए!
तमिलनाडु में एक मंदिर को 500 और 1000 नोट वाले 44 लाख रुपए चढ़ावा मिला है! यह चढ़ावा मोदी सरकार की नोटबंदी के फैसले के ठीक एक दिन बाद मिला! यह मंदिर 16वीं शताब्दी में बना है और इसका नाम जलाकंधेश्वर मंदिर है! यह चेन्नई से 137 किलोमीटर दूर वेल्लोर में है! माना जा रहा है कि ये दान किसी एक शख्स अथवा ग्रुप ने दिया है! मंदिर के सेक्रेटरी एस सुरेश कुमार ने बतायाए श्हमलोग इस रकम को एक्सचेंज करने के लिए बैंक में जमा करेंगे! इस मंदिर में किसी ने पहली बार इतना बड़ा चढ़ावा दिया है! श्भगवान शिव के इस मंदिर में पिछले 400 साल से धार्मिक विवाद की वजह से कोई पूजा नहीं हो रही थी! अब इस मंदिर का देखरेख पुरातत्विक विभाग करता है! दान के रूप में इतनी बड़ी रकम मिलने से इस मंदिर की शक्ल बदलने की उम्मीद है! इस बीच केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि 2ण्5 लाख रुपए से अधिक रकम जमा कराने पर इनकम टैक्स की पैनी निगाह रहेगी! वैसे इसमें साफ नहीं है कि मंदिर में चढ़ावे टैक्स के दायरे में आएगा या नहीं!

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY