पाक-चीन सीमा पर बसे गांवों से पलायन, संघ ने कहा- असुरक्षित हो...

पाक-चीन सीमा पर बसे गांवों से पलायन, संघ ने कहा- असुरक्षित हो जाएंगी सीमाएं

46
SHARE

संघ ने सीमावर्ती गांवों में रोजगार और शिक्षा को बढ़ावा देने की जरूरत बताई। कहा कि नौजवानों को ‘योद्धा’ के रूप में स्थापित करना होगा ताकि संकट के समय में यह भी सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हो जाएं। पाक और चीन की सीमा पर बसे गांवों से पलायन हो रहा है।
संघ ने माना कि इन इलाकों में रहने वाले लोगों में सुरक्षा का भाव पैदा करने में सिस्टम फेल साबित हुआ है। यदि यह गांव खाली हो जाएंगे तो सीमाओं की सुरक्षा करना बेहद मुश्किल होगा। ऐसे में सरकार को चाहिए कि इन गांवों में रहने वाले लोगों को रोजगार दे। शिक्षा के लिए स्कूल खोले जाएं। उन्हें विश्वास दिलाया जाए कि वह वहां पूरी तरह से सुरक्षित हैं। महिलाओं को भी कुटीर उद्योग से जोड़ा जाए। संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य ने कहा कि सेना और सरकार तो देश की सीमाओं को सुरक्षित करने में लगे ही हैं, आम आदमी की भी जिम्मेदारी है।
पलायन तभी होता है जब इंसान अपने परिवार को असुरक्षित मानने लगता है। पलायन रोकने के लिए सरकार को ठोस कार्ययोजना बनानी होगी। संघ का सीमा जागरण मंच भी इसके लिए प्रयास करेगा।

SHARE

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY